ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
प्राचीन भारतीयमुद्रा और कहावतें
November 15, 2019 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय • विशेष


'प्राचीन भारतीय मुद्रा प्रणाली' फूटी कौड़ी से कौड़ी, कौड़ी से दमड़ी ,दमड़ी से धेला , धेला से पाई , पाई से पैसा , पैसा से आना, आना से रुपया  बना। 256 दमड़ी = 192 पाई = 128 धेला = 64 पैसा  = 16 आना = 1 रुपया प्राचीन मुद्रा की इन्हीं इकाइयों ने हमारी बोल-चाल की भाषा को कई कहावतें दी हैं, जो पहले की तरह अब भी प्रचलित हैं। देखिए  एक फूटी कौड़ी भी नहीं दूंगा। एक धेले का काम नहीं करती हमारी बहू ! चमड़ी जाये पर दमड़ी नजाये। पाई -पाई का हिसाब रखना। सोलह आने सच।