ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
लाकडाउन में आम की फसल में उचित प्रबंधन !
April 14, 2020 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय • विशेष

                             डा. विवेक कुमार त्रिपाठी 

                  विभागाध्यक्ष उद्यान विभाग (सी.एस. ए. कानपुर)

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कानपुर के कुलपति डॉक्टर डी.आर. सिंह के निर्देश के क्रम में  उद्यान विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ विवेक कुमार त्रिपाठी ने लॉक डाउन के दौरान आम के बागवान भाइयों हेतु एडवाइजरी जारी कर कहा है कि माह अप्रैल में आम के  बागों की विशेष रूप से देखभाल की आवश्यकता होती है उन्होंने कहा कि इस वर्ष माह जनवरी तक अधिक ठंड पड़ने के कारण आम में बौर देर से तथा कम आए हैं। साथ ही कुछ क्षेत्रों में मार्च माह में ओलावृष्टि व तेज हवाओं के कारण आम की फसल को काफी क्षति हुई है डॉक्टर त्रिपाठी ने कहा कि आम की फसल का प्रबंधन यदि उचित ढंग से किया जाए तो इससे अच्छी आमदनी प्राप्त की जा सकती है डॉक्टर त्रिपाठी ने कहा कि इस समय  आम के पेड़ों पर मटर के दानों से भी बड़े फल बन चुके हैं इस समय भुनगा कीट की समस्या होती है इसकी रोकथाम के लिए थाईमैं थकजाम 25 डब्ल्यू जी की 1 ग्राम मात्रा को प्रति 3 लीटर पानी के हिसाब से घोलकर पौधों पर छिड़काव करना चाहिए।इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आम में स्केल कीट भी लगता है जो टहनियों, बौरो एवं फलों में चिपक कर रस चूसता है तथा यह कीट सफेद रंग का होता है इसके नियंत्रण हेतु डाईमेंथोएट 30 ईसी की 2 मिलीलीटर मात्रा प्रति लीटर पानी में घोलकर पत्तियों, शाखाओं और बौरो पर छिड़काव करना चाहिए उन्होंने कहा कि इस समय आम की फसल में खर्रा रोग भी आता है इसकी रोकथाम के लिए हेक्सआकोनाजोल 50 SL की 1 मिलीलीटर मात्रा प्रति लीटर पानी में घोल कर छिड़काव कर देने से इसका नियंत्रण हो जाता है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आम की फसल में एंथक्नोज रोग भी देखा गया है बागवान भाई इस रोग के नियंत्रण हेतु कार्बेंडाजिम 50 WP की 1 ग्राम मात्रा प्रति लीटर पानी के हिसाब से घोलकर छिड़काव करना चाहिए। सिंचाई प्रबंधन के लिए डॉक्टर त्रिपाठी ने बताया कि जिन क्षेत्रों के बागों में नमी की कमी हो तो फलों की तूड़ाई तक आवश्यकतानुसार सिंचाई करते रहना चाहिए। तथा आम के फलों के झड़ने की समस्या अगर आ रही हो तो बागवान भाई प्लानओंफिक्स 4.5%  की 0.5 मिलीलीटर मात्रा प्रति लीटर पानी की दर से छिड़काव  करने से आम के झड़ने की समस्या दूर हो जाती है डॉक्टर त्रिपाठी ने कहा कि आम के फलों की अच्छी वृद्धि हेतु घुलनशील उर्वरक 19: 19: 19 के 5 ग्राम और सूक्ष्म पोषक तत्व मिश्रण की 5 ग्राम को प्रति लीटर पानी कि दर से घोल कर छिड़काव लाभ प्रद  होगा।मीडिया प्रभारी डॉक्टर खलील खान ने बागवान भाइयों से अपील की है कि आम के बागों में कार्य करते समय मुंह पर मास्क लगाएं व सामाजिक दूरी अवश्य बनाए रखें तथा सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें।