ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सैन्यबल नागरिक प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कर रहे हैं कार्य!
April 3, 2020 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय • समाचार

 

क्वारंटाइन किये गए 1737 लोगों में से 403 लोगों को अनिवार्य प्रक्रिया के बाद वापस भेजा गया!

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए सैन्य बल चौबीसों घंटे जरुरतमंदो को चिकित्सा और लॉजिस्टिक सहायता प्रदान कर रहे हैं। संकट की इस घड़ी में सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) ने नागरिक प्रशासन की सहायता के लिए अपने संसाधनों की तैनाती की है। सशस्त्र बल मुंबई, जैसलमेर, जोधपुर, हिंडन, मानेसर और चेन्नई में 6 क्वारंटाइन सुविधाएं
चला रहे हैं। इन केन्द्रों पर 1737 लोगों को रखा गया था और इनमें से 403 लोगों को अनिवार्य प्रक्रिया के बाद वापस भेज दिया गया है। कोविड-19 के 3 पॉजिटिव मामलों – हिंडन से दो और मानेसर से एक – को राष्ट्रीय राजधानी स्थित सफदरजंग अस्पताल भेजा गया है। इसके अलावा जरुरत पड़ने पर 15 अन्य सुविधाओं को तैयार रखा गया है। पूरे देश में सशस्त्र बलों के 51 अस्पतालों को समर्पित कोविड-19 सुविधा केन्द्रों के रुप में तैयार किया जा रहा है। इनमें से कुछ सुविधा केन्द्र कोलकाता, विशाखापत्तनम, कोच्चि, हैदराबाद के निकट डुंडीगल, बेंगलुरु, कानपुर, जैसलमेर, जोरहाट और गोरखपुर में स्थित हैं।
कोविड-19 जाँच के लिए सशस्त्रबल अस्पतालों के 5 वायरल जांच प्रयोगशालाओं को राष्ट्रीय ग्रिड से जोड़ा गया है। इनमें शामिल हैं – सेना अस्पताल (रिसर्च एंड रेफरल), दिल्ली कैंट; वायु सेना कमान अस्पताल, बेंगलुरु;  सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज, पुणे; कमान अस्पताल (केन्द्रीय कमान) लखनऊ और कमान अस्पताल (पूर्वी कमान) उधमपुर। छह अन्य
अस्पतालों में कोविड-19 जांच सुविधा जल्द ही शुरु की जाएगी।
भारतीय वायु सेना की विशेष उड़ानों ने लोगों को निकालकर गंतव्य तक पहुंचाया और चिकित्सा सामग्री की आपूर्ति की। सी-17 ग्लोबमास्टर-III क्रू सदस्य, मेडिकल टीम और सहयोगी टीम के साथ 15 टन चिकित्सा सामग्री को लेकर चीन गया और वहाँ से 125 भारतीय नागरिकों जिनमें बच्चे भी शामिल थे तथा मित्र देशों के कुछ नागरिकों को लेकर वापस स्वदेश पहुंचा। अपनी दूसरी यात्रा में सी-17 ग्लोबमास्टर-III ईरान गया और वहाँ फंसे 58 भारतीयों को लेकर वापस भारत पहुंचा। इनमें 31 महिलाएं थीं। विमान कोविड-19 जांच के लिए 529 नमूने भी लेकर आया है। सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान ने 6.2 टन दवाईयां मालदीव पहुंचाई हैं। 5 डॉक्टरों, 2 नर्सिंग अधिकारी और 7 पारामेडिक्स की एक सेना चिकित्सा कोर टीम को मालदीव में तैनात किया गया था। इस टीम ने क्षमता निर्माण तथा जांच, ईलाज और क्वारंटाइन सुविधाओं की स्थापना में सहयोग दिया। यह टीम 13 से 21 मार्च, 2020 तक मालदीव में थी।
भारतीय वायुसेना का परिवहन बेड़ा आवश्यक वस्तुओं, दवाइयों और चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति कर रहा है। अब तक लगभग 60 टन सामान देश के विभिन्न हिस्सों में पहुंचाए गए हैं। देश के विभिन्न हिस्सों में 28 फिक्स्ड विंग और 21 हेलीकॉप्टर तैयार रखे गए हैं।
पड़ोसी देशों की सहायता के लिए छह नौसेना जहाजों को तैयार रखा गया है। मालदीव,  श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान और अफगानिस्तान में तैनाती के लिए पांच मेडिकल टीमों को भी तैयार रखा गया है।