ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
किसान बारिश से न हो हत्तोसाहित
January 17, 2020 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय • विशेष

उत्तर प्रदेश के समस्त सम्माननीत अन्नदाता कृषक साथियों प्रदेश में प पिछले दो दिनों से निरंतर हो रही बारिश का फसलों पर कोई बड़ा बहुत बुरा प्रभाव नहीं पड़ने वाला है, सरसों की फसल में दाने अच्छी प्रकार भर जाएंगे और बारिश के बाद अगर तेज धूप खेलती है तो मांहूं कीट का आक्रमण भी नहीं होगा दलहनी फसलों में खासकर अरहर में भी इस बारिश से फसल की परिपक्वता तक नमी बरकरार रहेगी और अच्छे ढंग से भरेंगे, वर्तमान में जो गेहूं की फसल है उसमें जिन खेतों में सिंचाई कर दी गई है, वहां हल्का सा जल जमा होने की स्थिति में फसल कुछ समय के लिए पीली हो सकती है  बेहतर होगा कि अगर संभव हो सके तो अतिरिक्त जल को खेतों से बाहर निकाल दें,अच्छी धूप निकलने पर पुनः फसल का सम्यक विकास होगा, इसलिए कृषक बंधु इस बारिश से हतोत्साहित न हों साथ ही इस बारिश की अवधि में किसी भी प्रकार की खरपतवार नासी दवा खासकर सब्जी की फसलों और अरहर की फसल में कीटनाशक का प्रयोग न करें मौसम साफ होने के उपरांत ही दवाओं का प्रयोग करें खरपतवार नासी का प्रयोग यूरिया के साथ घोल बनाकर कदापि न करें । 
आलू फसल में यदि जल जल मराव हो गया हो तो तत्काल जल निकासी की व्यवस्था करें! और जहाँ पर फसल में नुक्सान दिखाई दे उसकी सूचना तुरन्त  अपने जिले के जिलाधिकारी, उप कृषि निदेशक, जिला कृषि अधिकारी एवं जनपद की अधिकृत फसल बीमा कम्पनी को दें और फसल का निरीक्षण कराके बीमित कृषक नुकसान की भरपाई हेतु आवेदन दें!