ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
, पत्नी और बेटे की मौजूदगी में हुआ विकास दुबे का अंतिम संस्कार
July 10, 2020 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय • समाचार

2 और 3 जुलाई की दरमियानी रात में कानपुरमें अपने किस्म की बेहद संगीन वारदात में दबिश डालने गई पुलिस टीम के 8 लोगों को एक ही झटके में मार गिराने वाले गैंगस्टर विकास दुबे का अंत भी वैसा ही हुआ।  विकास दुबे का गुरुवार को एनकाउंटर हो गया. था अब विकास दुबे का अंतिम संस्कार भी हो चुका है। 
विकास दुबे का शव का शाम 7:15 बजे भैरव घाट विद्युत शवदाह गृह पहुंचा. जहां विकास का अंतिम संस्कार किया गया।  इस दौरान विकास दुबे का सिर्फ एक ही रिश्तेदार पहुंचा।  कई थानों की फोर्स इस दौरान मौजूद रही। 
विकास दुबे का पोस्टमॉर्टम खत्म होने के बाद उसकी पत्नी ऋचा ने शव लेने से इनकार कर दिया।  वहीं मां सरला ने कहा कि वह अपने बेटे का चेहरा भी नहीं देखना चाहती है।  विकास का शव उसके बहनोई दिनेश तिवारी ने लिया।  एंबुलेंस के जरिए विकास का शव उसके गांव लाया गया।  इस दौरान भारी पुलिस बल तैनात था। 
कानपुर के भैरव घाट पर विकास दुबे की अंतिम संस्कार हुआ।  मौके पर उसकी पत्नी ऋचा, बेटा और बहनोई दिनेश तिवारी मौजूद रहे।  वहीं विकास दुबे के पिता ने कहा कि "हमें किसी ने बताया कि हमारा बेटा मारा गया है हमने कहा ठीक किया गया।  उन्होंने कहा कि मैं उसके अंतिम संस्कार पर क्यों जाऊं ? हमारा कहा वो मानता तो आज इस दशा को क्यों प्राप्त होता।  उसने हमारी कभी मदद नहीं की। 
विकास दुबे के अंतिम संस्कार के दौरान पुलिस ने मीडिया कवरेज को रोक कर रखा।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अंतिम संस्कार के दौरान विकास की पत्नी ने कहा कि जिसने जैसा सुलूक किया है उसे वैसा ही सबक सिखाउंगी. जरूरत पड़ी तो बंदूक भी उठाउंगी।