ALL विशेष कविता सिंचाई समाचार कहानी पशुपालन कृषि बागवानी घाघ भण्डारी की कहावतें कृषि समाचार
जामुन की नई किस्म जामवंत
August 4, 2019 • डा. शरद प्रकाश पाण्डेय

 

आईसीआर-सीआईएसयच , लखनऊ  ने जामुन की किस्म जामवंत का लोकार्पण किया जिसमें 90 प्रतिशत से अधिक गूदा पाया जाता है, यह किस्म एंटीडायबिटिक एवं बायोएक्टिव यौगिकों में भरपूर है। संस्थान के अनुसंधान सलाहकार समिति के अध्यक्ष डॉ बीएस चुंडावत, गुजरात कृषि विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति ने इसे वाणिज्यिक खेती के लिए जारी किया। विमोचन से पहले इस किस्म की उपज और गुणवत्ता के लिए विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में परीक्षण में इसे उत्तम पाया गया। संस्थान के पास बेहतर जामुन किस्मों का एक बड़ा संग्रह है, जिसमें से अत्यधिक विविधता विधमान है। सीआईएसयचदृजामवंत ताजे फल और प्रसंस्करण दोनों के लिए उपयुक्त है। इसका अधिक गूदा प्रतिशत एवं छोटी गुठली उपभोक्ताओं को आकर्षित करती है और ग्राहक भुगतान की बेहतर वापसी संतुस्ट रहता है। किस्म की गुणवत्ता से प्रभावित आईटीसी ने अलीगढ़ में इसके क्लस्टर प्लांटेशन को बढ़ावा दिया ताकि मूल्यवर्धित उत्पाद बनाने के लिए कच्चा माल आसानी से उपलब्ध हो सके। संस्थान ने इन किसान समूहों को स्थापित करने में मदद की और किसानों को जामुन के व्यावसायिक उत्पादन के लिए प्रशिक्षित किया। सीआईएसयच  को देश के अधिकांश हिस्सों से हजारों की संख्या में ग्राफ्ट की नियमित मांग मिल रही है और इसके रिलीज होने से पहले ही परीक्षण के लिए कई बाग लगाए जा चुके  हैं। आजकल जामुन पॉश बाजारों में अच्छा पैसा कमा रहा है और जामवंत के स्वादिष्ट फल अपने बोल्ड आकार, गुदे और नगण्य कसैलेपन के कारण आकर्षित करने के लिए विशेष रूप से उपुक्त हैंद्य विशेष रूप से जामुन में कसैलेपन की समस्या से मुक्त हैं।
संस्थान के प्रधान विज्ञानी डॉ आनंद कुमार सिंह ने बताया की देश में  जामुन में बहुत विविधता है क्योंकि जामुन को बीज के माध्यम से व्यापक रूप से प्रसारित किया जाता रहा है। सीआईएसयच ने जामुन में वेज ग्राफ्टिंग तकनीक का मानकीकरण किया। फलस्वरूप देश के प्रमुख जामुन उत्पादक क्षेत्रों में सर्वेक्षण के परिणामस्वरूप एकत्र किए गए विभिन्न बेहतर जामुन प्रकारों को ग्राफ्टिंग तकनीक के माध्यम से संरक्षित किया गया था। संस्थान में जामुन की किस्मों की काफी संख्या है जिसमें से 90þ से अधिक गूदे की अनूठी विशेषता के कारण “जामवंत” की पहचान की गई थी। चयनित पौधों को देश के विभिन्न भागों में परीक्षण के लिए दिया गया। संस्थान ने लगभग दो दशक पहले चयन के माध्यम से जामुन की किस्म विकसित करने पर काम करना शुरू किया।
जामवंत एक उत्तम और बड़े आकर का जामुन है जिसका मातृ वृक्ष सड़क के किनारे एवेन्यू ट्री की तरह उगा था और बेहतर गुणवत्ता विशेषताओं के आधार पर पहचाना गया। वेज ग्राफ्टिंग से इस पौधे से संकुर डाली लाकर संसथान में कई पौधे बनाये गए। आकर्षक गहरे बैंगनी रंग के साथ बड़े आकार के फलों के गुच्छों के कारण इस किस्म में श्रेष्ठता है। उच्च गूदा : बीज अनुपात (90 - 92) और मिठास  (16 - 17 ब्रिक्स) इसके चयन की अन्य प्रमुख विशेषताएं हैं। फल बड़े आकर का, औसत वजन 24.05 गूदा अपेक्षाकृत उच्च एस्कॉर्बिक एसिड (49.88 मिलीग्राम / 100 ग्राम) और कुल एंटीऑक्सिडेंट मूल्य (38.30 मिलीग्राम एईएसी / जी) के कारण इसको यह पोषक तत्वों में धनि है। फलों का पकना देर से जून के दूसरे / तीसरे सप्ताह के दौरान होता है।


जामुन की बढ़ती खपत और लोकप्रियता किसानो को इसकी व्यावसायिक खेती के लिए प्रेरित कर रही है। उपभोक्ताओं की माँग के कारण सड़क के किनारे पर उगने वाले पेड़, अनजान भूमि या बंजर भूमि में लगे वृक्ष का ही उत्पादन बाज़ार में आ रहा हैं। नया बाग लगाने के लिए किसान संसथान से जामुन की अच्छी किस्म की मांग करते हैं,  क्योंकि वे अबतक ज्यादातर अपने आप उगे या बीजू पेड़ों पर निर्भर थे।
कुछ दशक पहले, मानक किस्में उपलब्ध नहीं थीं क्योंकि जामुन बीज के माध्यम से उगाया गया था, जाहिर है कि फलों में बहुत भिन्नता होगी। विभिन्न स्थानों पर प्रसिद्ध जामुन के कई प्रकार पौधों का जन्म मौजूदा बीजू पौधों के उपयोग का परिणाम है। अद्वितीय जामुन के पेड़ों के मालिक पौधे बना कर पौधे बाटने में सक्षम नहीं थे क्योंकि इस फल के लिए ग्राफ्टिंग तकनीक उपलब्ध नहीं थी। इसकी खेती में बढ़ती मांग और इच्छुक लोगों की संख्या ने इसे भविष्य की फसल बना दिया है। अधिकांश लोग स्वाद के लिए इसका सेवन नहीं करते हैं, उन्हें जामुन के मधुमेह रोधी और कई औषधीय गुणों में रुचि है। यह गुण इसे मई से जुलाई के दौरान मधुमेह के लिए दैनिक उपयोग का फल बनाता है। 
किस्मों की अनुपस्थिति में, एक दशक से अधिक समय तक प्रतीक्षा करके भी बीजू पौधों के बाग़ से अच्छे फलों की कोई निश्चितता नहीं हैद्य इसलिए किसानों व्यवसाइक वृक्षारोपण के लिए आकर्षित नहीं होते थे। ग्राफ्टिंग तकनीक ने काम को सरल बना दिया है क्योंकि 5 साल के भीतर ग्राफ्टेड पौधे फल देने लगते हैं। छोटे आकार के पेड़ को बनाने की तकनीक संस्थान में विकसित की गई है, जो इन ग्राफ्टेड पौधों को वांछनीय ऊंचाई पर बनाए रखने में मदद करता है। फल सामान्य ऊंचाई पर तोड़ने के लिए सामान्य व्यक्ति की पहुंच में होते हैं अन्यथा ज्यादातर जामुन के पेड़ विशाल होते हैं। शाखाओं को हिलाकर या गिराए गए फलों को इकट्ठा करके तुड़ाई करना मौजूदा प्रथा है । बदलते परिदृश्य के साथ, कोई भी आसानी से छोटे पेड़ों से फल तोड़  सकता है और जमीन पर गिरने के कारण फलों की बर्बादी नहीं होती है।
“जामवंत” की बढ़ती मांग के साथ, संस्थान हजारों की संख्या में ग्राफ्टेड पौधे तैयार कर रहा है और इच्छुक किसानों ने पहले से ही इस पौधों को प्राप्त करके  बाग़ लगाया है। इस तरह से बड़े पैमाने पर लगे बागों से जामवंत के फल बाजार में अधिक मात्रा में आना संभव हैं और साथ ही प्रसंस्करण उद्योग के लिए भी उत्तम क्वालिटी का कच्चा माल उपलब्ध होगा।